News

Bank Account Hack 950000 !!

नोएडा सेक्टर 108 में रहने वाली वर्षा अग्रवाल को एक बड़ा झटका लगा है उनके अकाउंट से ₹950000 एक झटके के अंदर साफ कर लिया गया है उनको कॉल आई थी कि आपके नंबर को हम 3G से 4G में कन्वर्ट करेंगे वर्षा अग्रवाल जानती थी कि OTP शेयर करूंगी फ्रॉड्स के साथ तो वह मेरा पैसा हजम कर लेंगे तो उन्होंने OTP नहीं शेयर किया अपना कोई बैंकिंग डिटेल नहीं दिया फिर भी उनके खाते से पैसे कैसे गायब हो गए

इस पोस्ट  में हम बात करेंगे लोग lockdowan के  टाइम पर cases में बढ़ोतरी हुई है FROODS

के तो आप सतर्क रहें जानकार रहें यही हमारा मनसा और और उद्देश्य और है  !

वर्षा अग्रवाल ने 7 मई को  एक कॉल  रिसीव किया जिसमें SIM कंपनी की ओर से रिक्वेस्ट थी या फिर कथित सिम कंपनी की ओर से रिक्वेस्ट थी  कि अपने नंबर को 3G से 4G कन्वर्ट करा लीजिए नहीं तो आपका नंबर बंद हो जाएगा आपका नंबर और लगभग  72 घंटों के अंदर आपके फोन में नेटवर्क गायब हो जाएगा !
 तो उन्होंने हां कहा नेटवर्क चेंज करने को कहा क्योंकि 4जी का जमाना है और उन्हें लगा कि शायद 4G में कन्वर्जन ही कर रही हो कंपनी हमारी फायदे के लिए 4G में वह कन्वर्जन करवाने के लिए जब अग्री होती हैं तो लगभग 3 दिन के बाद उनका नेटवर्क गायब होता है लेकिन एक हफ्ते तक इंतजार करने के बाद 4G नेटवर्क उनके फोन में नहीं आता है इससे वह काफी घबराती है बैंक जाती है तो पता चलता है कि ₹950000 उनके अकाउंट से निकाल लिए गए हैं अब ₹950000 कैसे निकाल लिया उन्होंने कहा मैंने तो कोई OTP शेयर नही किया है और फिर मैंने अपना बैंकिंग डिटेल्स शेयर ही नहीं किया पुलिस ने तहकीकात भी कर रही है जल्दी मामला सामने निकल कर अ  जाएगा मुझे पता है आप मुझसे बहुत सारे बुद्धिमान लोगों को भी पता है कि यह क्या मामला है यह SIM स्वैपिंग का

Real Life. Real News. Real Voices

Help us tell more of the stories that matter

Become a founding member

मामला SIM स्वैपिंग क्या होता है आपके नाम की जो सिम है वह कोई और जनरेट कर लेता है और यह कोई करीबी करता है जो कि आपके आस पास का है जानकार होता है

बस उसको आपके बैंक का अकाउंट नंबर चाहिए और फिर सिम शॉपिंग की मदद से वह आप किसी SIM को बंद करके आपके नाम से ही दूसरे सिम को चालू कर लेता है और इसमें मिलीभगत होती है सिम कंपनियो के  अंदर बैठे

कर्मचारियों की वहीं यह काम करते हैं क्योंकि इसमें वेरिफिकेशन की आवश्यकता होती है SIM के

मालिक की पर अगर वेरीफिकेशन इनपुट फीड गलत दे दिया जाए मिलीभगत कर लिया जाए कस्टमर सर्विस वाले लोगों से तो फिर यह काम किया जा सकता है पहले भी हमने ऐसे कई कैसे देखे हैं इंडिया में  और SIM स्वैपिंग के मामले काफी तेजी से बड़ भी रहे हैं ₹950000 हजम करना इतना बड़ा मामला अभी तक नहीं आया था वर्षा अग्रवाल को झटका लगा इस बात से हमें खेद है

प्रोसेस क्या है ध्यान से समझिए आपके नाम की जो सिम है कंपनी में उसी नाम से एक रिक्वेस्ट डाला जाएगा कि मेरी सिम खो गई है मुझे नया सिम चाहिए उस सिम को बंद कर दीजिए और आपकी सिम बंद कर दी जाएगी मिलीभगत से और नया सिम जनरेट भी हो जाता है आधार वेरिफिकेशन भी नहीं चाहिए

यहां पर मैं यहां पर तरीके का प्रचार तो नहीं करना चाहता था कि कोई प्रेरित को कॉल करने के लिए लेकिन एक फर्जी एप्लीकेशन राख करने में कुछ नहीं जाता है!

 और इसको बैंक तुरंत ब्लॉक कर लेता है नंबर अपडेट करना है बहुत ही आसान प्रोसेस है गांव गांव के लोग शहर शहर के ताल में दो-चार बार नंबर अपडेट करते रहते हैं इसलिए इस पर कोई ध्यान भी नहीं देता और लोग ऐसा करते हैं एक बार आपका नंबर अपडेट हो जाता है तो आजकल मोबाइल बैंकिंग सेवा नेट बैंकिंग वह सब चीजें केवल और केवल आपके फोन नंबर से होती है और वहीं पर आपके बैंक से पैसे निकालने का खेल शुरू होता है!

आप अपना ध्यान रखिए नंबर पासवर्ड सारी चीजें अपडेट करके रखिए किसी भी कॉल का जवाब मत दीजिए जो भी आपसे कुछ डिटेल मांगे KYC UPDATE, BANK, SIM COMPANY

यह सब आपको डायरेक्ट कॉल नहीं करती
इन सब का टोल फ्री नंबर होता है आप कॉल करेंगे तब इनसे बात होगी वैसे भी कहां बात होती है उनके पास इतना कहा खाली समय है कि आपको फोन करेंगे

मेरी यही बिनती है अप सब लोगो से की अप सब अपना ध्यान रखे और एस तरह के केस से बचे खुद को सुरछित रखे!

यदि आप सब को मेरी यह पोस्ट पसन्द आयी हो तो दूसरों के साथ भी इसे शेयर करना न भूले ताकि  वर्षा अग्रवाल की तरह कोई और इस तरह के केस में न फस जाये  !

Subscribe to the newsletter news

We hate SPAM and promise to keep your email address safe

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top
EnglishHindi